आलमगीर आलम

मंत्री आलमगीर आलम के करीबी हाकिम के नाम 2020 में थे पांच हाइवा व जेसीबी, अब 107

,

Share:

झारखंड सरकार के पूर्व मंत्री आलमगीर आलम को टेंडर कमीशनखोरी के मामले में रिमांड पर लेकर ईडी के अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं। मंगलवार को विभाग के पूर्व सचिव आईएएस मनीष रंजन से भी 8 घंटे पूछताछ हुई है। इस बीच आलमगीर के करीबी हाकिम के बारे में सनसनीखेज जानकारी सामने आया है।

लगातार डॉट इन के खबर के मुताबिक, हाकिम के पास वर्ष 2020 में पांच हाइवा थे, लेकिन आज की तारीख में उसके नाम से 107 हाइवा और जेसीबी हैं। हाकिम ने सभी वाहनों की रजिस्ट्रेशन पाकुड़ से ही कराया है। इन गाड़ियों की अनुमानित कीमत करीब 100 करोड़ है। हाकिम ने सभी वाहनों के दस्तावेज लगातार न्यूज नेटवर्क के पास उपलब्ध हैं।

जानकारी के मुताबिक, हाकिम ने 107 वाहनों को खरीदने के लिए अलग-अलग बैंकों से लोन लिया है। इन बैंकों में एसबीआई, सीआईएफसीएल, एमएमएफएसएल, एक्सिस बैंक, एचडीबी, आईबीएल, कोटक, फेडरल, टीएमएफ, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और टाटा कैपिटल बैंक शामिल हैं। बताया जाता है कि हाकिम की सारी गाड़ियां सरकारी कांट्रैक्ट के काम में लगते हैं। ठेकेदारों की मजाल नहीं कि, वो हाकिम को छोड़ किसी दूसरे की गाड़ी का इस्तेमाल कर सकें.

हाकिम का अधिकांश वक्त पिछले चार सालों से रांची में ही गुजरता रहा है। सप्ताह में तीन-चार दिन वह रांची में ही रहता था और मंत्री आलमगीर आलम के आसपास होता था।

उल्लेखनीय है कि मंत्री आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के करीबी जहांगीर के आवास में छापेमारी कर ईडी ने 35 करोड़ रुपये जब्त किए थे। इस मामले में ईडी ने संजीव लाल व जहांगीर को गिरफ्तार किया था। जिसके बाद ईडी ने पूछताछ के लिए मंत्री आलमगीर आलम को बुलाया था। दो दिन तक चली पूछताछ के ईडी ने उन्हें 15 मई को गिरफ्तार कर लिया था। वह अभी ईडी के रिमांड पर हैं।

हाकिम ने कब कितने वाहन खरीदे हैं? वर्ष 2020 में पांच हाइवा थे, वर्ष 2021 में 10 हाइवा थे, वर्ष 2022 में 36 हाइवा और जेसीबी थे, वर्ष 2023 में 61 हाइवा और जेसीबी थे, और वर्ष 2024 में पांच हाइवा हैं।

Tags:

Latest Updates