आलमगीर आलम

ED का कार्रवाई तेज, मंत्री और IAS अधिकारी को आमने सामने बैठा कर होगी पूछताछ

,

Share:

झारखंड के ग्रामीण विकास विभाग में हुए 3000 करोड़ रुपये के टेंडर कमीशन घोटाले में ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) तेजी से कार्रवाई कर रही है।

ईडी ने मंत्री आलमगीर आलम को पहले ही गिरफ्तार कर लिया है और उनसे 11 दिनों तक पूछताछ की है। हालांकि, मंत्री आलमगीर से ज्यादातर सवालों का संतोषजनक जवाब नहीं मिला है।

मंत्री से 50 से सवाल किए गए, लेकिन ज्यादातर सवाल को यह कहकर टाल दिया गया कि इसकी जानकारी नहीं है

मंत्री आलमगीर आलम को ईडी ने 16 मई को गिरफ्तार किया। 17 मई को कोर्ट में पेश करने के बाद पहली बार छह दिनों की रिमांड पर ईडी को सौंपा। इसके बाद फिर दूसरी बार उन्हें पांच दिनों की रिमांड पर दिया। मंत्री आलमगीर आलम से 11 दिनों तक ईडी पूछताछ कर चुकी है। लेकिन सोर्स बताते हैं कि मंत्री से 50 से सवाल किए गए, लेकिन ज्यादातर सवाल को यह कहकर टाल दिया गया कि इसकी जानकारी नहीं है।

अब ईडी ने ग्रामीण विकास विभाग के पूर्व सचिव और आईएएस अधिकारी मनीष रंजन को भी दो बार समन भेजा है। पहली बार वह नहीं पहुंचे, लेकिन अब ईडी ने उन्हें 28 मई को पूछताछ के लिए बुलाया है। ऐसे में मनीष रंजन की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

मनीष रंजन और मंत्री आलमगीर को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की तैयारी

​​​​​​IAS मनीष रंजन और मंत्री आलमगीर को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की तैयारी चल रही है। आलमगीर आलम की रिमांड सोमवार को खत्म हो रही है। ऐसे में ईडी कोर्ट से एक बार फिर उनकी रिमांड बढ़ाने की मांग कर सकती है।

ईडी के दस्तावेजों में कई कोड वर्ड का जिक्र है, जिसमें ‘एम’ शब्द के आधार पर मनीष रंजन को निशाना बनाया गया है। ईडी कोर्ट से मंत्री आलमगीर की रिमांद बढ़ाने की मांग भी कर सकती है।

कई महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त हुई

ईडी द्वारा की गई जांच और जब्त दस्तावेजों से कई महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त हुई हैं, जिन्हें कोर्ट में पेश किया गया है। जांच एजेंसी ने कमीशनखोरी के लिए सिंडिकेट द्वारा तैयार किए गए कोड वर्ड को भी ब्रेक किया है।

इसके अलावा, यह भी पता चला है कि कमीशन के पैसे में किसे कितना हिस्सा मिलता था। मंत्री आलमगीर आलम के पीए संजीव लाल के सहायक के यहां से बरामद रुपए किस रंग के थैले में किसके पास से आए, इसकी भी जानकारी जुटाई गई है।

कमीशनखोरी के कोड वर्ड के बारे में जानकारी मिली

कमीशनखोरी के कोड वर्ड के बारे में जानकारी मिली है कि एक डायरी में लिखा था कि विकास नाम का व्यक्ति लाल रंग की थैली में पैसे लेकर आया। इसी तरह पर्पल, ग्रे और ब्लैक रंग के बैग में पैसे लेकर आने वालों का भी जिक्र था।

इस डायरी के पन्ने में कुल 2868.45 में 16.98 साहब को देने का विवरण दिया गया है। इस पन्ने में अन्य भी विभिन्न प्रकार के कोड का उल्लेख है। इसके अतिरिक्त, डायरी में कई अन्य विषयों का भी ज़िक्र है। यहाँ साहब शब्द का उपयोग किया गया है। ईडी के अनुसार, साहब का अर्थ मंत्री आलमगीर आलम से है। इसी पन्ने में साहब को 2.50 देने का उल्लेख भी है। इसी प्रकार, 30 लिखने के बाद गुप्ता, 100 लिखने के बाद मुन्ना, 35 लिखने के बाद रेड और विकास जैसे शब्दों का भी उल्लेख है।

 

Tags:

Latest Updates