देशवासियों के साथ अन्याय के लिए कांग्रेस को माफी मांगनी चाहिए – बाबूलाल मरांडी

, ,

Share:

Ranchi : झारखंड भाजपा के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने कांग्रेस द्वारा जारी किए गए न्याय पत्र पर टिप्पणी की है. उन्होंने कहा है कि कांग्रेस ने न्याय पत्र जारी किया है, जिससे उन्हें समझ आया कि आजादी के बाद से पार्टी ने जो देशवासियों के साथ अन्याय किया है, उसके लिए उन्हें माफी मांगनी चाहिए. झारखंडवासियों से भी उन्हें माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस ने सिर्फ़ तुष्टिकरण की राजनीति की है. ये बात उन्होंने सोमवार को प्रदेश कार्यालय में हुए प्रेस वार्ता में कही.

कांग्रेस ने हर तबके के साथ अन्याय किया था

बाबूलाल मरांडी ने कहा कि जब बीजेपी की नेतृत्व में सरकार नहीं बनी थी, तब देश की स्थिति बहुत खराब थी. गांव-घरों में डॉक्टर के पास जाने के लिए सड़कें भी ठीक नहीं थीं. बरसात में गांव के गांव टापू में बदल जाते थे, लेकिन बीजेपी सरकार के आने के बाद गांवों में बिजली आ गयी.

सड़कें बन गयीं और अब लोगों के घरों में बिजली है. उनके हाथ से लालटेन छूट गई है और अब वे उन्हें शौक से जलाते हैं. कांग्रेस ने हर तबके के साथ अन्याय किया था, जबकि बीजेपी की सरकार बनते साथ गांव-घर तक सिलेंडर पहुंच गया। ये छोटी-छोटी चीजें हैं, लेकिन कांग्रेस ने कभी इन समस्याओं को खत्म करने की कोशिश नहीं की.

इंदिरा गांधी ने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया, लेकिन गरीबों तक न अकाउंट पहुंचा, न ही उन्हें पैसे मिले

पत्रकारों के साथ बातचीत में बाबूलाल मरांडी ने कहा कि इंदिरा गांधी ने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया, लेकिन गरीबों तक न अकाउंट पहुंचा, न ही उन्हें पैसे मिले. लेकिन जब भाजपा सरकार आई, तो बैंक खुले और पैसे सीधे पहुंचे. अब कोई बीच में पैसे नहीं खा सकता.

कांग्रेस के राज्यों में कितनी अप्रिय घटनाएं हुईं, कितने लोग सीधे बॉर्डर पर आंख दिखाते थे, लेकिन आज भारत को गर्व है कि वह दुनिया के सामने अपनी पहचान बना रहा है. आज देश हर क्षेत्र में उच्चतम स्थान पर है और विकास की राह पर है.

इस परिस्थिति में कांग्रेस को माफी मांगनी चाहिए क्योंकि उन्होंने देश को बहुत समय तक अंधेरे में रखा. उन्हें न्याय के पहले अन्याय के लिए माफी मांगनी चाहिए. तमिलनाडु में उनके गठबंधन का कोई भी यह दावा नहीं कर रहा कि वे सनातन धर्म को खत्म कर देंगे, और इस पर कोई वादा नहीं होता है.

इस समय ये लोग सनातन धर्म के पक्ष में आवाज उठाने वालों को ही खामोशी से सामना कर रहे हैं.

Tags:

Latest Updates